शनिवार, 29 अगस्त 2015

RAKSHABANDHAN me BACHPAN

                   रक्षाबंधन 

रक्षाबंधन के पावन पर्व पर आप सबको हार्दिक बधाई !

बहुत समय बाद लेखनी चली तो बचपन की सुनहरी यादों 
में खो गयी। एक कविता की रूप रेखा ज़हन में आई। 
आज वो ही आपके लिए पोस्ट कर रही हूँ। 

               रक्षाबंधन में  बचपन   
 सात स्वरों का मेल करा के, संगीत रचे वीणा के तार।
  पावन बचपन याद दिलाता, रक्षाबन्धन का त्यौहार।।

 पहला 'सा' सीमा न थी जिसकी, वो था माँ पापा का प्यार।
 जिसने चिंता रहित बनाया, देकर अमित असीम दुलार।।

 दूजा 'रे' मा मा , रे मा मा रे' सुनाते थे दादा नाना कहानी।
और गा गा के लोरी, सुनाती थी, सुलाती थी दादी-नानी।।

'ग' से ग़म न था कोई, रहते थे होकर अबाध, निर्द्वन्द्व 
इक्कड़ दुक्कड़, चोर सिपाही, मज़े से खेलते थे स्वछन्द।।

'म' से " मम्मी भूख लगी है " था हमारा तकिया कलाम।
मम्मी पूछतीं तो,"कुछ और कुछ और" कहती थी ज़ुबान।।

'प'से पापा,अर्थ व्यवस्था करते,रख चेहरे पर अजब ओज।

 लाव-लश्कर ले खूब घुमाते, टूर पे हम थे, मनाते मौज।।

'ध' से धूप में साया करता, भाई तुम्हारा प्रेम-मय  साथ।

 नोंक-झोंक, मनोरंजन, मिठाई, राखी टीका और सौगात।।

'नि' से निकल पड़े जब, अपनी सुसराल आये हम। 

तब भी, विदा कराने को भैया, दौड़ पड़े, आये तुम।।

सात सुरों और 'तीव्र म' से, बनता राग यमन- कल्याण।

यूं ही भाई का सम्बल, बहन की सांसों में भर देता प्राण।।

 नहीं शब्द 'धन्यवाद' बहुत !  है  छोटा यह पड़ जाता।

 हैं अनमोल  जगत में ऐसा, भाई - बहन  का नाता।।

 राखी बाँध भैया-भाभी को प्रतिवर्ष, प्रगाढ़ करूँ मैं  प्रेम। 

 माथे पर मंगलमय टीका,रोली-अक्षत सजाऊँ यह नेम।।

 जुग-जुग जियो तुम दोनों, सुखी स्वस्थ प्रसन्न रहो।
 पाओ अनुपम यश- कीर्ति, देश में एक मिसाल बनो।।
 पाओ अनुपम यश-कीर्ति, देश में एक मिसाल  बनो।

                                          अमिता 29.08.2015 

लखनऊ के घर ( मायके) की यादे







































रमन भैया रसोई में 

party just  before leaving (Feb. 2015 )
party just before leaving (Feb. 2015)  
party just before leaving (Feb. 2015 )
                                                             बाबा, भाई, भाभी, पापा, मम्मी, बच्चों के साथ 
  
   ग़ुज़रा  हुआ वक्त (मम्मी, भाभी, बच्चों के साथ)
तरबूज़ के cut से ज़्यादा खुले मुह (नाना नातिनों  साथ )
पापा  मम्मी 
भाई लोग जीजाजी  साथ ( फरवरी २०१५)

family after dinner (February 2015 )

 पति, बेटियों, नाती के साथ (dec. 2014 )

 

2 टिप्‍पणियां:

  1. सप्तक के सात स्वरों से अलंकृत बचपन का प्यार -दुलार तुमारी लेखनी का अनमोल रत्न है१ ,आत्मीय जनों की यादगारों से संकलित इन फोटुओं से याद आया मैं बचपन को बुला रही थी ----नंदन वन सी फूल उठी ------ हमने भी तुम्हारे घर की इस बगिया को निहारा है !तुम्हारे हृदय से नि:सृत इन भावों का अभिनन्दन! आशीष सहित बुआ -फूफाजी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय बुआजी फूफाजी,
      आपकी टिप्पणी बहुत प्रेरणादायी है। आप सम्पूर्ण रचना को ध्यान से पढ़ कर, उसका विवेचन कर, उस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हैं, ये बहुत प्रशंसनीय है।
      बुआ आपसे, जो कि हिंदी भाषा की विद्वान् हैं, उनकी धनात्मक प्रतिक्रिया सुनना, प्रससन्नता देता है।
      आपको धन्यवाद! चरण स्पर्श!! अमिता

      हटाएं